यहां बेटियों के नाम से होती है उनके घरों की पहचान

बैतूल के खंडारा गांव के बाद अब जिले के हर गांव और शहर के लोग भी जुड़ रहे एक अनोखी मुहिम से

 बैतूल – मध्य प्रदेश के बैतूल जिले का खंडारा गांव, यहां हर घर पर न केवल नामपट्टिकाएं लगी हैं, बल्कि इन पर घर की बेटियों का नाम शोभायमान है। इस गांव से शुरू हुई यह मुहिम अब जिले के हर गांव और शहर में फैल चुकी है। जिला मुख्यालय से 12 किमी दूर खंडारा गांव से शुरू हुआ यह अभियान अब अन्य गांवों से होता हुआ शहर तक आ पहुंचा है। बड़ी संख्या में लोग अपनी बेटियों के नाम पर नेम प्लेट लगा रहे हैं।

बैतूल शहर के भगतसिंह वार्ड में रहने वाले अखिलेश ठाकुर के मकान में अब उनकी बेटी लहक व लक्ष्मी की नेम प्लेट (नामपट्टिका) लगी हुई है, वहीं पटेल वार्ड निवासी राजेश चौकीकर ने भी अपने नाम की नेम प्लेट हटाकर अपनी बेटियों वैष्णवी एवं समीक्षा की नेम प्लेट घर लगा दी है। दरअसल ऐसा उन्होंने बेटियों को सम्मान और पहचान देने के एक अभियान के तहत किया है।

खंडारा गांव से स्वयंसेवी अनिल यादव ने इस मुहिम की शुरुआत की थी। उन्होंने ‘डिजिटल इंडिया विद लाडो’ अभियान के तहत लोगों को उनकी बेटियों के नाम की नेम प्लेट लगाने के लिए प्रोत्साहित करना शुरू किया। कुछ लोगों को बेटियों के नाम की नेम प्लेट बना कर भी दी। खंडारा गांव में इस समय 200 घरों में से 155 घरों में बेटियां हैं। इन सभी घरों में बेटियों के नाम की प्लेट लगाई जा चुकी है। इन घरों की पहचान अब घर के मुखिया के नाम से नहीं, बल्कि बेटियों के नाम से होती है।

Related Posts

Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent News